कैलाश विजयवर्गीय का बड़ा बयान अगर अमित शाह ने नहीं रोका होता तो 2 महीने में

0
1011

वरिष्ठ नेता और बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने आगर मालवा में उपचुनाव के लिए BJP कार्यालय का उद्घाटन किया. इस दौरान उन्होंने कांग्रेस पर जमकर हमला बोला. उन्होंने कहा कि अमित शाह नहीं मना किए होते तो प्रदेश में कमलनाथ की सरकार 2 माह में ही गिरा देते.

गरीब आदिवासी किसान को मिला जमीन का पट्टा, PM मोदी के सामने ऐसे किया खुशी का इजहार

इस दौरान कमलनाथ पर निशाना साधते हुए कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि जनता ने उन्हें भोलेनाथ समझकर वोट दे दिया, लेकिन बाद में पता चला कि वे कमलनाथ नहीं कपटनाथ हैं.

साथ ही उन्होंने कमलनाथ और दिग्विजय सिंह पर होशियारी का भी आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि दोनों ही नेताओं ने सिंधिया को वचनपत्र बनाकर प्रचार के लिए भेज दिया और बाद में एक सीएम बनकर बैठ गया.

कार्यकर्ताओं को संबोधन करने के दौरान कैलाश विजयवर्गीय ने बंगाल में एक सरदार के साथ हुई घटना को लेकर ममता सरकार पर हमला बोला.

उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल में किसी गोल टोपी वाले कि टोपी उछल जाती है तो पुलिस की वर्दी उतर जाती, वहां, भारत का कानून नहीं, बल्कि ममता का कानून चलता है. इस दौरान उन्होंने धारा 370 को लेकर अलगाववादियों पर निशाना साधा.

वहीं, उनके इस बयान से प्रदेश की सियासत एक बार फिर गरमा गई है. इस पर कांग्रेस ने पलटवार किया है. कांग्रेस विधायक कुणाल चौधरी ने बीजेपी हमला बोला है. उन्होंने कहा कि कैलाश विजयवर्गीय का बयान सरकार गिराने वाले रावण के अंहकार की तरह है.

प्रदेश की जनता बीजेपी के इस अंहकार को समझती है और इसका जवाब आने वाले उपचुनाव में देगी. जनता बीजेपी को पूरी तरह से खारिज कर देगी और पार्टी की सभी सीटों पर जमानत जब्त हो जाएगी.