महाराष्ट्र में फिर एक बार BJP सरकार

0
753

अभी फ़िलहाल महाराष्ट्र में वैसे तो शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस की सरकार है लेकिन ये सरकार स्थिर है ऐसा तो कोई भी मानने को राजी नही होता है क्योंकि आये दिन तीनो पार्टियों में किसी न किसी बात को लेकर के विवाद होता रहता है

और ये विवाद कम होने की बजाय हमेशा बढे ही है और इस बात से कोई भी इनकार नही कर सकता है. अब हाल ही में संजय राउत ने जो फडनवीस के साथ में मीटिंग की थी उसके बाद में इसके कयास और ज्यादा लगने लगे थे क्योंकि शरद पवार भी इससे नाराज हो गये थे.

अब केन्द्रीय मंत्री रामदास अठावले का बयान, बराबर भागीदारी के साथ सरकार बनाये शिवसेना और बीजेपी
मोदी सरकार के सहयोगी दल के नेता और केन्द्रीय मंत्री रामदास अठावले ने अब ये कयास लगाने शुरू कर दिये है कि बीजेपी और शिवसेना जल्द ही फिर से एक साथ आ जायेगी और सरकार बनाएगी.

अठावले ने देश के पोपुलर न्यूज़ नेटवर्क एबीपी से बातचीत के दौरान कहा कि शिवसेना और बीजेपी को अब 50-50 के फोर्मुले पर सरकार बनानी चाहिए.

शिवसेना महाराष्ट्र की महत्त्वपूर्ण पार्टी है और इन्होने एनसीपी और कांग्रेस के साथ मिलकर के सरकार बनाई है जो ज्यादा चल नही सकती है.

वो कहते है कि बीजेपी और शिवसेना में पिछले पच्चीस सालो से दोस्ती रही है और दोनों में अभी भी कोई ज्यादा मतभेद नही है. मुझे नही पता कि देवेन्द्र फडनवीस और संजय राउत के बीच में क्या बातचीत हुई

लेकिन अब दोनों को फिर से हाथ मिला लेना चाहिए. बाल ठाकरे की शिव शक्ति का सपना अगर पूरा करना है तो इनको एनसीपी और कांग्रेस का साथ छोड़ देना चाहिए. फिर हम तीनो मिलकर के सरकार बनायेंगे.

रामदास अठावले जिस तरह से दोनों पार्टियों को एक साथ लाने के बारे में बोले है और ऊपर से शिवसेना व बीजेपी आपस में गुपचुप मीटिंग कर रही है उसके बाद में सुगुबुगाहट तेज तो जाहिर तौर पर होनी ही है और अब इससे शरद पवार के माथे पर रेखाएं साफ़ नजर आ रही है.